छोटे प्रयास बडे़ परिणाम (Small efforts big results)

Published by indertanwar397 on

छोटे प्रयास बडे़ परिणाम (Small efforts big results)

बातें तो छोटी ही होती है बस उसके परिणाम बड़े होते हैं। बड़ी सफलता उन्ही को मिलती है जो छोटी छोटी बातों का नियमित अनुसरण करते हैं। जैसे हम रोजाना दांत साफ करते हैं। यह काम तो छोटा है लेकिन इसके परिणाम बहुत ही शानदार है। अचानक कोई भी काम संभव नहीं होता, धीरे धीरे अभ्यास करके ही किसी कार्य में कुशलता आती हैं जैसे छोटे बच्चे लिखना और पढ़ना सीखते है। शुरू शुरू में गलतियां करते है फिर छोटे छोटे प्रयासों से पढने लिखने में कुशल हो जाते हैं। ठीक उसी प्रकार हमें भी अपने सपनों को पूरा करने में अभ्यास रूपी शस्त्र का प्रयोग करना होगा। अक्सर हम लोग छोटी बातों को छोटा समझ कर अनदेखा कर देते हैं। जैसे समय पर खाना, समय पर सोना, बड़ों का आदर सत्कार करना। ये सब बातें हमारे जीवन में बहुत महत्वपूर्ण स्थान रखती है। हमें इन छोटी छोटी बातों को नियमानुसार अपने व्यवहार में शामिल करना होगा।

इसे भी 👉 पढ़ें  :- 


छोटे-छोटे प्रयास रोजाना

अभ्यास हमारे जीवन का एक महत्वपूर्ण पहलू है। छोटे छोटे प्रयास प्रतिदिन किए जाएं तो कोई भी लक्ष्य हासिल किया जा सकता है। जिस प्रकार एक साधारण सी रस्सी कुएं के पत्थर पर प्रतिदिन के अभ्यास से निशान बना देती हैं। उसी तरह हम सब भी अभ्यास द्वारा कठिन से कठिन उद्देश्य को सहजता से प्राप्त करने में सक्षम हो जाते हैं। जो व्यक्ति जितना अधिक अभ्यास करेगा वो अपने कार्य क्षेत्र में उतना ज्यादा महारथ हासिल कर सकता है। जितने भी सफल और लोकप्रिय लोग हुए है उन्होंने भी इसी मूलमंत्र को अपनाकर अपने कार्य क्षेत्र में विशेषज्ञता हासिल की हैं। जिस प्रकार किसी देश की उन्नति के लिए योजनाओं का होना अनिवार्य है और योजना एक दो दिन या फिर महिने की नहीं होती, योजनाएं तो बरसों (Years) के लिए बनाई जाती हैं। उसी तरह हमें भी योजना अनुसार काम करना होगा और तब तक परिश्रम और अभ्यास करते रहना होगा जब तक हम अपनी महत्वकांक्षाओं को पूरा करने में सक्षम नहीं हो जाते। छोटे छोटे प्रयासों से हम अपने सपनों को साकार कर सकते हैं।


स्वास्थ्य के नियमों का पालन

समस्याओं के विकराल रूप धारण कर लेंने के बाद सचेत होना, संभलना समझदारी नहीं है। बाद में तो हो सकता है कि हमें संभलने का मौका भी ना मिले। तो क्यों न समस्याओं के शुरुआती दौर में ही हम अपने आप को संभाल ले या फिर दूसरों की गलतियों से सबक सीखते रहें। इन सबके लिए हमें अपने आलस्य को पूरी तरह से छोड़ना होगा। इस आलस्य की आदत के कारण ही आज हमने अपने आप को इतना कमजोर और असहाय बना लिया है कि अगर मौसम में थोड़ा सा परिवर्तन से ही हम तकलीफ़ में आ जाते है, बीमार हो जाते हैं। थोड़ा समय तो निकालना होगा अपने लिए, अपनों के लिए। ज्यादा नहीं तो प्रतिदिन 15 मिनट तक व्यायाम करें, जो आपको अच्छा लगे, जागिंग, योग, दौड़ चाहे जो भी करें लेकिन नियमित रूप से करने से हम अपने आप को शारीरिक और मानसिक रूप से मजबूत बना सकते हैं। ऐसा न हो एक दिन करके फिर 10 दिन आराम तब ये काम नहीं करेगा। क्या हम किसी बड़े नुकसान का इंतजार कर रहे है अगर नहीं तो हमें अपनी आदतों में बड़ा बदलाव लाने की आवश्यकता है। और ये बड़ा बदलाव हमारी छोटी छोटी आदतों से ही लाया जा सकता है।

इसे भी 👉 पढ़ें:-

खुद की मदद कैसे करें


शिक्षा में सुधार

प्रकृति खुद भी धीरे धीरे काम करती है लेकिन अनवरत करती रहती है बिना रूके बिना थके, तभी वो इतनी ताकतवर है। ये सब हमें भी सीखने की आवश्यकता है। और हमसे भी यही उम्मीद की जाती हैं क्योंकि नियम सब के लिए समान है। जब एक चीज के प्रति हम पूरी तल्लीनता के साथ सामंजस्य पैदा कर लेते है तो हम उस क्षेत्र के मास्टर हो जाते हैं। लेकिन ये सब तभी होगा जब हम बिना अवकाश के नियमित अभ्यास करेंगे। हममें से ज्यादातर तो एक दो प्रयास करने के बाद कोशिश करने की हिम्मत ही नहीं दिखाते। यही सोच हमारे पिछड़ने का कारण बनती हैं। फिर हम भाग्य और भगवान को दोष देने लगते हैं कि हमारा तो भाग्य ही ख़राब है, ईश्वर हमारी सुनता ही नहीं। जिस प्रकार कुल्हाड़ी के एक वार से पेड़ को नही काटा जा सकता उस पर कुल्हाड़ी से बार बार वार करना पड़ेगा।

इसे भी 👉 पढ़ें:

खुद पर काम करें


 विकल्प 


सुंदर व्यवहार 

शिष्टाचार हमारे व्यक्तित्व का एक महत्वपूर्ण पहलू है इसकी अनदेखी नहीं की जा सकती। व्यवहारिक तौर पर हम सब को अपने व्यवहार में भी बदलाव लाने की आवश्यकता है। क्योंकि हमारा व्यवहार ही हमें सबसे अलग करता है। हमारे समाज में एक शिष्ट व्यक्ति को सम्मान की दृष्टि से देखा जाता है। शिष्टता को छोटे-छोटे प्रयासों से हम अपने व्यवहार में शामिल कर सकते हैं। जैसे बड़ों का सम्मान करना, जरूरतमंदों की सहायता करना, ईश्वर के प्रति आभार व्यक्त करना। सुंदर व्यवहार से ही जीवन सुखी बनाया जा सकता हैं।

इसे भी 👉 पढ़ें  :- सफल आदतें


आदतों में बदलाव

आज हम जो कुछ भी है वो हमारी आदतों का ही परिणाम है। वर्तमान समय में हमें अपनी आदतों में मूलभूत परिवर्तन करने की आवश्यकता है। अच्छी बातों को, आदतों को छोटे-छोटे प्रयासों से हम अपने व्यवहार में शामिल कर सकते हैं। नियम बना लें कि आज मुझे एक निश्चित समय अवधि में पढ़ाई करनी है या व्यायाम करना है या जो आपका लक्ष्य है। और फिर  प्रतिदिन समय को बढ़ाते जाएं। कुछ समय बाद यह हमारी आदत में शुमार हो जाएगा। और इस तरह हम छोटे छोटे प्रयासों से अपने जीवन को सुखमय और सरल बना सकेंगे।


इसे भी 👉 पढ़ें :- आनंदमय जीवन


आपके comments से हमें प्रेरणा मिलती है। अपने दोस्तों और भाइयों को शेयर जरुर करें और ब्लॉग को Follow भी करें।


धन्यवाद 🙏


3 Comments

deep · May 9, 2021 at 2:30 am

👏👏👏

deep · May 9, 2021 at 2:30 am

👏👏👏

Manish Thakur (Good Nature for Life) · May 10, 2021 at 1:09 am

बहुत अच्छा मित्र

Leave a Reply

Avatar placeholder

Your email address will not be published. Required fields are marked *