एक छोटा कदम कामयाबी की ओर (one small step towards success)

Published by indertanwar397 on


सही दिशा में की गई मेहनत कभी बेकार नहीं जाती।


एक छोटा कदम कामयाबी की ओर। सही दिशा में किए गए हर एक प्रयास का परिणाम ब्याज सहित वसूल होगा। बस धैर्य धारण करने की आवश्यकता है । अगर हम सोचे कि हमारे छोटे छोटे प्रयासों से क्या फर्क पड जाएगा तो फिर हम बहुत बड़ी गलतफहमी में है। इसको सुधारने की आवश्यकता है। एक एक प्रयास का असर हमारी सफलताओं पर पड़ता हैं। जिस तरह किसी पेड़ को काटा जाता है तो ऐसा नहीं है कि पेड़ कुल्हाड़ी के आखिरी वार से धराशाई होता है, उस पर किए गए कुल्हाड़ी के प्रत्येक वार का असर होता है। सही दिशा में की गई मेहनत कभी बेकार नहीं जाती। इस बात को समझने की आवश्यकता है। आमतौर पर हम सफल लोगों का केवल एक ही पहलू देखते है। उनका कामयाब होने के बाद का पहलू। सफलता प्राप्ति के लिए उनके द्वारा किए संघर्ष, विपरीत परिस्थितियों में धैर्य बनाए रखने की अद्भुत क्षमता और समय के महत्व को समझने की कला को बहुत कम लोग देख पाते हैं। उनकी लगन और निरंतर सही दिशा में किए गए प्रयासों के परिणाम ही हम सब को हैरत में डाल देते हैं। यह सब वास्तव में इतना ही आसान है बस अपने अंदर से डर को खत्म करने की आवश्यकता है इसकी अपेक्षा जीतने की प्रबल भावनाओं को अपने मन और व्यवहार में बनाएं रखना होगा। एक छोटा कदम कामयाबी की ओर।

इसे भी 👉 पढ़ें:-

खुद की मदद कैसे करें



निरंतरता अनिवार्य रूप से आवश्यक हैं।

एक छोटा कदम कामयाबी की ओर। काम को टालने से बात बनने वाली नहीं हैं। हमें अपनी आज की क्षमताओं का प्रयोग आज़ ही करना होगा। परीक्षा के लिए दो महीने, छह महीने या साल पड़ा हो तो हम सोचते है कि अभी तो बहुत समय है फिर तैयारी कर लेंगे। नहीं ऐसे तो हम खुद ही अपने आप को प्रतियोगिता से बाहर निकाल रहे हैं। हमें रोजाना प्रयास करना होगा चाहे थोड़ा ही करें लेकिन निरंतरता अनिवार्य रूप से आवश्यक हैं। थोड़ी तकलीफ़ तो खुद को देनी ही पड़ेगी, क्योंकि कामयाब होने के बाद हमारे संघर्ष की कहानी भी तो होनी चाहिए दूसरों को सुनाने के लिए। ताकि लोग भी हमसे प्रेरणा लेकर अपने जीवन को सफल और लोकप्रिय बना सकें। एक छोटा कदम कामयाबी की ओर। सोचते तो सब है कि हमें कार चाहिए, बंगला चाहिए, बहुत सारी दौलत चाहिए, लेकिन जब बारी काम करने की आती है, संघर्ष करने की आती है, धैर्य धारण करने की आती है तो हम विचलित हो जाते हैं, शीघ्र परिणाम न मिलने पर निराश होने लगते है, निरंतरता बनाए रखने में असफल हो जाते हैं जो कि अनिवार्य शर्त है। इतना निश्चित है अगर हम सकारात्मक दिशा में लगातार मेहनत करते है तो असफल नहीं हो सकते। सफल होने में समय लग सकता है लेकिन कामयाबी मिलेगी जरूर। हमें फैसला करना ही होगा कि हमें एक बेहतरीन जीवन जीना है। हमें अच्छी आदतों और विचारों को अपनाकर अपने जीवन में शानदार परिवर्तन कर सकते हैं। एक छोटा कदम कामयाबी की ओर।

इसे भी 👉 पढ़ें:-


हमारे भाव


ज्ञान से ही भाग्य का उदय होगा


समय हाथ से निकल जा रहा है।


प्रार्थना की शक्ति


उत्साह


जिम्मेदारी

स्वस्थ सोच


अवसर


संसार हमेशा श्रेष्ठ लोगों का ही अनुसरण करता है 

एक छोटा कदम कामयाबी की ओर। हमारे अंदर प्राकृतिक रूप से बेशुमार गुण भरे पड़े है। इन गुणों को, क्षमताओं को और ज्यादा बेहतर बनाने के लिए हमें अच्छी आदतों को अपने व्यवहार में शामिल करने की आवश्यकता है। वास्तव में कामयाब और नाकामयाब लोगों में सिर्फ आदतों का ही अंतर होता हैं। इसके अलावा प्राकृतिक रूप से कोई भेद नहीं होता (अपवाद को छोड़कर)। खुद से प्रश्न कीजिए कि हम सफल होने के लिए कौन सा तरीका अपना रहे है? और क्या यह तरीका हमें हमारे उद्देश्य तक ले जाने में हमारी सहायता करेगा? क्या मेज़र ध्यानचंद को ऐसे ही लोग हॉकी का जादूगर कहते है?, क्या सचिन को यूं ही क्रिकेट का भगवान माना जाता है?, क्या यूं ही दशरथ मांझी को लोग माउंटेन मैन के नाम से जानते है? ये लोग यूं ही महान नहीं बन गए, इन लोगों ने अपने सम्पूर्ण जीवन को झोंक दिया अपने सर्वश्रेष्ठ को बाहर निकालने में, अपने उद्देश्य को पूरा करने में और इसमें कामयाब भी हुए। क्या हम यह सब नहीं जानते? जानते है। फिर कहां कमी है? इस बात को खोजने और उस कमी को दूर करके अपने जीवन को सफल बनाने की आवश्यकता है। नियमों का कठोरता से पालन करके हम अपने जीवन में कोई भी लक्ष्य हासिल कर सकते हैं क्योंकि संसार हमेशा श्रेष्ठ लोगों का ही अनुसरण करता है एक छोटा कदम कामयाबी की ओर।

इसे भी 👉 पढ़ें:-


खुद की मदद कैसे करें



आज़ के दिन के बदले में हमें दूसरा दिन नहीं मिल सकता।

एक छोटा कदम कामयाबी की ओर। हमें स्वयं से प्रोमिस करना होगा कि कोई परिस्थिति, व्यक्ति या फिर काम हमारे जीवन के विकास में बाधक नहीं बनेगी। क्योंकि समय सबसे महत्वपूर्ण है और इसका कोई दूसरा विकल्प भी मौजूद नहीं है। आज़ का काम हमें आज ही करना होगा, आज का दिन हमारे सबसे महत्वपूर्ण और अच्छे दिनों में से एक है ऐसे सोच कर दिन की शुरुआत करना हमेशा लाभकारी रहता हैं। उसे कल पर टालने का अर्थ है खुद को धोखा देना, खुद को बहकावे में रखना। जीवन में आज़ के दिन के बदले में हमें दूसरा दिन नहीं मिल सकता। कल का दिन तो नया सवेरा लेकर आएगा। हमें अपनी आदतों को समय रहते और ज्यादा बेहतर बनाने की आवश्यकता है। जिस प्रकार सोने (Gold)  को खरा बनाने के लिए उसे कई बार तपाया जाता है, शुद्ध किया जाता है ठीक उसी तरह हमें अपने अंदर मौजूद बुरी आदतों और भावनाओं को दूर करके अच्छी आदतों और नियमों को अपनाने की आवश्यकता है। हमारे द्वारा आज़ किए गए कार्यों से ही हमारे वर्तमान और  भविष्य जुड़े हुए है। अब फैसला हमें ही करना है कि हमें क्या करना है और क्या सोचना है? एक छोटा कदम कामयाबी की ओर।

इसे भी 👉 पढ़ें:


खुद पर काम करें



डर से खुद को दूर करके अपनी प्रतिभा को निखारना जा सकता है।

एक छोटा कदम कामयाबी की ओर। संतोष करना सबसे बेहतरीन गुणों में से एक है। लेकिन हम सफल होने के बाद भी और ज्यादा बेहतर कर सकते हैं। बीते कल की सफलता पर संतोष करना असफलता का कारण बन सकता हैं। अपनी क्षमताओं का सम्पूर्ण प्रयोग करके हम भी उदाहरण पेश कर सकते हैं। हमें शरीर के रूप में एक अद्भुत मशीन मिली है और इसमें सबसे महत्वपूर्ण अंग दिमाग है इस दिमाग रूपी मशीन से हम जो चाहें वो सब हासिल कर सकते हैं। बस इस मशीन का सही तरीके से इस्तेमाल करना आना चाहिए। डर से खुद को दूर करके हम अपनी इस असाधारण शक्ति का पूरा उपयोग कर सकते हैं। और अपने जीवन को सफल बना सकते हैं।


जिस भी प्रेरणादायक विषय पर आप पढना चाहते है आप हमें बताएं। हम आपकी पसंद के विषय पर जरूर आर्टिकल लिखेंगे।

टिप्पणियां अवश्य दें।

धन्यवाद 🙏


0 Comments

Leave a Reply

Avatar placeholder

Your email address will not be published. Required fields are marked *