अच्छे संस्कार और अच्छी आदतें ही हमारी स्थाई सम्पत्ति है। (Good values and good habits are our permanent wealth.)

Published by indertanwar397 on

अच्छे विचार और अच्छे अहसासों को ही विकसित करने की कोशिश करनी होगी।

अच्छे संस्कार और अच्छी आदतें ही हमारी स्थाई सम्पत्ति है। अच्छी आदतें और संस्कार ही हमारे भविष्य का निर्धारण करते हैं। हम जो कुछ भी बहाने लगाएं मिलता हमें वही है जो हमारे व्यवहार, हमारे व्यक्तित्व से झलकता है। बुरा व्यवहार करके हम अच्छे की उम्मीद कैसे कर सकते हैं? वास्तव में प्रकृति के नियम सब पर समान रूप से लागू होते हैं। अच्छे विचार और संस्कारों की शुरुआत हमारे परिवार से होती है। इसीलिए लिए कहा गया है कि बच्चों का भविष्य उनके माता-पिता के व्यवहार से काफी हद तक प्रभावित होता है। मन में सदैव अच्छे विचार और अच्छे अहसासों को ही विकसित करने की कोशिश करनी होगी ताकि हमारे दिमाग में हमेशा सकारात्मक विचारों और भावनाओं का उदय हो। लगातार अच्छा सोचते रहने से हमारा दिमाग अच्छे विचारों को ग्रहण कर लेता है और यही हमारा व्यवहार बन जाते हैं। 

इसे भी  पढ़ें :-

सहयोग से ही हम जीवन में सफलता प्राप्त करते हैं।

जिंदगी में खुशियां कहां पाऊं।

मूल्यवान कैसे बनें।

चैम्पियन की तरह व्यवहार करना होगा

हमारे भाव

ज्ञान से ही भाग्य का उदय होगा

समय हाथ से निकल जा रहा है।

उत्साह

जिम्मेदारी

सफलता प्राप्ति में संस्कारों का महत्त्व

असफलताओं को सफलता में बदलने वाले मुख्य तरीके

अच्छी और गुणवत्ता से भरपूर किताबें पढ़ने की जरूरत है।

अच्छे संस्कार और अच्छी आदतें ही हमारी स्थाई सम्पत्ति है। मानसिक रूप से प्रयत्न करना सबसे महत्वपूर्ण है क्योंकि सफलता के लिए हमें सबसे पहले अपने आप को मन से मजबूत बनाना होगा। इसके अलावा हमें अपने मानसिक प्रयत्नों को कभी कम नहीं करना क्योंकि इन्हीं विशेष प्रयासों से हम अपने जीवन को सुखमय और खुशियों से भरपूर बना सकते हैं। वस्तुत: इन्हीं प्रयासों से हम अपनी बुरी आदतों को बढ़ने से रोक सकते हैं। इन्हीं प्रयत्नों से हम अपने जीवन की दिशा और दशा बदल सकते हैं। इसके लिए अच्छी और गुणवत्ता से भरपूर किताबें पढ़ने की जरूरत है। इसके अलावा ऐसे लोगों से कम से कम मिला जाए जो हमारे लक्ष्य प्राप्ति में किसी भी प्रकार से सहायक नहीं होते। थोड़ा मुश्किल जरूर है लेकिन मंजिल प्राप्ति हेतु यह एक छोटी सी क़ीमत होगी। महान व्यक्तित्व जीवन में प्रत्येक क्षण को महत्व देते हैं।

इसे भी  पढ़ें

मानसिक बदलाव ही सफलता का मूलमंत्र है।

जीवन जीने के अनूठे तरीके।

खुद की मदद कैसे करें।

कोशिश करने से पीछे न हटें।

असंभव कुछ भी नहीं

ऊर्जा का स्तर

सामर्थ्य

आशावादी दृष्टिकोण

समय ही धन है

स्वस्थ जीवन जीने के तरीके।

स्वमान

परिवर्तनों से घबराने की बजाय उनका आदर करना होगा

थोड़ा मुश्किल जरूर है लेकिन फायदा पूरा देती हैं ये मैगनेटिक क्वालिटी।

अच्छे संस्कार और अच्छी आदतें ही हमारी स्थाई सम्पत्ति है। एक सफल व्यक्ति के जीवन में आदतों और संस्कारों की महत्वपूर्ण भूमिका होती हैं। इन्हीं गुणों के आधार पर उसनेे कामयाबी हासिल की होती हैं। दुनिया में अच्छी आदतें और संस्कार किसी की निजी सम्पत्ति नहीं है। इन विशेषताओं पर सबका अधिकार है। और कामयाब होने के लिए इन बुनियादी गुणों को विकसित करना अत्यंत आवश्यक है। कोई भी इन विशेष गुणों को विकसित कर सकता है। थोड़ा मुश्किल जरूर है लेकिन फायदा पूरा देती हैं ये मैगनेटिक क्वालिटी। किसी वस्तु विशेष के लिए समय बर्बाद करना मंजिल तक पहुंचने में देरी का संकेत है। हमारी कोशिश होनी चाहिए कि हमारा प्रत्येक विचार हमें उन्नति की दिशा में ले जाने का काम करें। बहाने बनाने, शिकायतें करने जैसे कार्यों में समय खर्च करने से खुद को बचाना होगा। हमारी आदतों का परिणाम ही हमारा वर्तमान और भविष्य हैं।

इसे भी  पढ़ें

खुशी हमारे लिए क्यों महत्वपूर्ण है?

विचार ही सबसे बड़ी पूंजी है।

निवेश कहा करें।

हमारा व्यक्तित्व

चलो एक बार फिर से कोशिश करते हैं।

जीवन के मुख्य गुण क्या हैं?

आनंदमय जीवन

सच्ची खुशी

सरल जीवन

सफल आदतें

हमेशा खुश कैसे रहें

डायमंड्स

हार जीत हमारे मन की अवस्थाएं होती है।

अच्छे संस्कार और अच्छी आदतें ही हमारी स्थाई सम्पत्ति है। अच्छी आदतों और संस्कारों को छोटे-छोटे परंतु लगातार कोशिशों से विकसित किया जा सकता है। जीवन में कठिन परिस्थितियों और मुश्किलों की मात्रा ज्यादा होने का अर्थ है कि ईश्वर जानता है कि व्यक्ति विशेष मजबूत इरादों का है और हर परिस्थिति में संतुलन बना लेगा। इसीलिए जो जितनी मुश्किलों का सामना करता है वो उतना ही मजबूत और मानसिक रूप से सबल होगा। हमें खुद का आंकलन करने की आवश्यकता है कि हम कितना मजबूत है। सफलता प्राप्ति में सही दिशा में निरंतर अभ्यास, धैर्य, और संयम की अत्यन्त आवश्यकता है। हार जीत हमारे मन की अवस्थाएं होती है। कहावत भी है कि मान लिया तो हार है और ठान लिया तो जीत। सफल लोग किसी भी कार्य को ठान लेने की कला में माहिर होते हैं। यही उनकी सफलता का मूलमंत्र भी होता है। 

इसे भी  पढ़ें

जीवन जीने के अनूठे तरीके।

धैर्य रूपी अद्भुत क्षमता को कैसे विकसित करें

स्वस्थ मन

पहला कदम

महत्वकांक्षा

कृतज्ञता

अपने आत्मविश्वास कौशल पर विश्वास 

सही दिशा

 विकल्प हमारे पास ही है।

प्रार्थना की शक्ति

समय ही धन है 

जीवन की खुबसूरती हमारे मेहनत करने और अपनी क्षमताओं को और ज्यादा विकसित करने में है।

अच्छे संस्कार और अच्छी आदतें ही हमारी स्थाई सम्पत्ति है। समस्याओं से टकरा जाना ही निजात पाना होता है। आमतौर पर समस्याओं को देखते ही हम घबरा जाते हैं, बचने के लिए कई तरीके निकालना शुरू कर देते हैं। यह तरीका बिल्कुल सही नहीं है। वास्तव में हमें निडरता से समस्याओं का समाधान निकालने की आवश्यकता है। मुश्किलों को खुद पर हावी न होने दें इसकी अपेक्षा जमकर टक्कर लें। अभ्यास और निरंतरता के नियम से हम अपने आप को इतना मज़बूत बना सकते हैं कि सफलता मजबूर हो जाएंगी आने के लिए। इस जीवन की खुबसूरती हमारे मेहनत करने और अपनी क्षमताओं को और ज्यादा विकसित करने में है। मौजूद विकल्पों का समय पर उपयोग करके ही उपलब्धि हासिल की जा सकती हैं। डर को दूर करके, बिना रुके चलते रहने से ही हमारी परफोर्मेंस में शानदार सुधार आ सकता है।

इसे भी  पढ़ें:-

निंरतर प्रयास से बेहतर कैसे बनें।

आदतों में सुधार।

स्वीकार करना सीखना होगा।

असंभव कुछ भी नहीं।

अंतिम पड़ाव कब होगा यह तय करना हमारे हाथ में नहीं होता।

अच्छे संस्कार और अच्छी आदतें ही हमारी स्थाई सम्पत्ति है। सबके लिए सम्मान की भावना रखना हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण है। ऐसा करने से हमारा दिमाग सकारात्मकता की दिशा में कार्य करने लग जाता हैं। कहा भी जाता है कि जब कुछ नज़र नहीं आता तब केवल परमात्मा ही नज़र आता है। ईश्वर को सुख और दुःख दोनों में ही याद करना ज्यादा फायदेमंद होगा। क्योंकी केवल मुश्किल समय में ही भगवान को याद करना हमारे स्वार्थ को प्रदर्शित करता है। सामान्यतः यह धारणा बनी होती है कि जीवन के अंतिम पड़ाव यानी रिटायरमेंट के बाद ही भगवान के भजन कीर्तन और याद करने की आवश्यकता है। लेकिन अंतिम पड़ाव कब होगा यह तय करना हमारे हाथ में नहीं होता। अपनी लड़ाई को हमें खुद ही लड़ना होगा। हमें स्वयं ही खुद की मदद करनी होगी। दूसरों पर निर्भरता को कम से कम करना हमारे हित में होगा।

जिस भी प्रेरणादायक विषय पर आप पढना चाहते है आप हमें बताएं। हम आपकी पसंद के विषय पर जरूर आर्टिकल लिखेंगे।

टिप्पणियां अवश्य दें।

धन्यवाद 🙏

Categories: Uncategorized

0 Comments

Leave a Reply

Avatar placeholder

Your email address will not be published. Required fields are marked *